मंगलवार, 13 दिसंबर 2016

doha

दोहा दुनिया
*
जोड़-जोड़ जो धन मरे, आज रहे खुद फेंक
ठठा हँस रहे पडोसी, हाथ रहे हैं सेंक
*
चपल-चंचला लक्ष्मी, सगी न होती मान
रही कैद में कब-कहीं, जोड़ मरे नादान
*
शक्ति-शारदा-रमा के, श्याम-श्वेत दो रूप
श्याम नाश करता 'सलिल', श्वेत बनाता भूप
*
निजी जरूरत से अधिक, धन के ईश न आप
न्यासीवत रक्षा करें, कीर्ति सके जग व्याप
*
शासक हो तो जंक सा, स्वार्थ-लोभ से दूर
जनगण-हित साधे सदा, बजा स्नेह-संतूर
*
माया-ममता-मोह ही, घातक-मारक पाश
नियम मुलायम कर रहे, अनुशासन का नाश
*
नर नरेन्द्र हो कर सके, दूर कपट-छल-भ्रांति
राज सिंह जब-जब करे, वन में हो सुख-शांति
*
प्रभु धरती पर उतरकर, करते जन-कल्याण
उमा सृष्टि-सुषमा बढ़ा, करें श्वास-संप्राण
*
प्रणव-नाद जब गूँजता, तब मन में हो हर्ष
राहुल को तज बुद्ध का, हो पाता उत्कर्ष
*
ज्योतिर्मय आदित्य हो, वसुंधरा के साथ
जनगण तब ही नवाता, दिनकर कहकर माथ
*
कमलनाथ हों कमल से, रहकर दूर अनाथ
अजय विजय कब पा सके, झुकी ध्वजा नत माथ
*
रमा-रमण, शिव-राज की, कीर्ति कहे इतिहास
किसी अधर पर हास हो, कोई रहे उदास
***
 


कोई टिप्पणी नहीं: