रविवार, 13 जुलाई 2014

हुल्लड़ जी गए।

 अब हुल्लड़ कौन करेगा???

अशोक चक्रधर 
ओह! हुल्लड़ जी गए।
सहज हास्य के ऐसे रचनाकार जल्दी जन्म नहीं लेते।
मैंने उनके साथ कम से कम हज़ार कविसम्मेलनों में तो भाग लिया ही होगा। यादें रह रह कर घुमड़ रहीहैं। आंखें नम हैं। देशभर के अनेक शहरों-कस्बों और बैंकाक, नेपाल, हांगकांग की यात्राओं के अनंत संस्मरण हैं मेरे पास। कल से स्मृतियों का चलचित्र जारी है।
चित्र न होते तो भरोसा मुझे भी नहीं होता कि मैंने 'हज्जाम की हजामत' के रचनाकार की तसल्लीबक्श हजामत की थी एक बार। छायाकार मीनाक्षी पायल से मुझे कुछ चित्र मिले हैं। ये सिर्फ़ फोटो शूट नहीं है दोस्तो। दोस्ती की अनन्यता है। मैं उन्हें किसी कविसम्मेलन के लिए तैयार कर रहा था। उनके बहाने अपना एक छिपा हुआ कौशल दिखा रहा हूं। वैसे साहस उनका था कि एक अनाड़ी से ब्लेड फिरवा लिया। यादों के आफ्टरशेव कोलोन सा एक शेर है उनका--
मैयत पे मेरी आके
कुछ लोग ये कहेंगे
सचमुच मरा है हुल्लड़
या ये भी चुटकुला है!
काश! चुटकुला ही होता।
जो नहीं जानते उन्हें बता दूं कि उनकी मशहूर कृतियां हैं--
हज्जाम की हजामत
इतनी ऊंची मत छोडो
क्या करेगी चांदनी
यह अंदर की बात है
त्रिवेणी
हुल्लड़ का हुल्लड़
तथाकथित भगवानों के नाम
अच्छा है पर कभी कभी
हुल्ल्ड के कहकहे
हुल्लड की हरकतें
हुल्लड की श्रेष्ठ हास्य व्यंग रचनायें
उन्हें अनेक पुरस्कार और सम्मान मिले, जैसे--
कलाश्री पुरस्कार
ठिठोली पुरस्कार
महाकवि निराला सम्मान
अट्टहास साहित्यकार सम्मान
काका हाथरसी सम्मान हास्य रत्न
पुत्र नवनीत ने उनकी बहुत सेवा की। पिता काफी समय से बीमार चल रहे थे लेकिन पिछले माह उनकी तबीयत बहुत बिगड़ गई और उन्हें मुंबई के कोकिलाबेन अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां से उन्होंने अंतिम विदाई ली।
वह 72 वर्ष के थे। भाभी कृष्णा चड्ढा. प्रिय नवनीत, सोनिया और मनीषा और पूरे परिवार के दुख में मेरी पूरी भागीदारी है। मन मुंबई में है। जल्दी आता हूं नवनीत। सबको धीर बंधाना।
उन्हें मेरी विनम्र श्रद्धांजलि।

4 टिप्‍पणियां:

ब्लॉग बुलेटिन ने कहा…

ब्लॉग बुलेटिन आज की बुलेटिन, थम गया हुल्लड़ का हुल्लड़ - ब्लॉग बुलेटिन , मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

शिवम् मिश्रा ने कहा…

हुल्लड़ मुरादाबादी साहब को हार्दिक श्रद्धांजलि और शत शत नमन |

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

श्रद्धांजलि ।

jyoti dehliwal ने कहा…

विनम्र श्रद्धांजली.