स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

गुरुवार, 30 मई 2013

vaishakh divas deepti gupta-sanjiv

वैशाख दिवस पर :

दीप्ति गुप्ता-संजीव 
*

Every test in our life makes us bitter or better, 
Every problem comes to make us or break us,
Choice is our whether we become victim or victorious !!!  
Search a beautiful heart not a beautiful face.
Beautiful things are not always good but good things are always beautiful.
Remember me on this WESAK DAY like a pressed flower in your Notebook.
It may not be having any fragrance but will remind
you of my existence forever in your life.
Have a Graceful day...

Wesak, also spelt Vesak, is a day celebrated by Buddhists around the world........... a holy day celebrated by Buddhists. It represents the birth, the Nirvana (enlightenment) and the Parinirvana (death) of Gautama .
*
जन्म मृत्यु निर्वाण दिन, दुर्लभ होना एक।
संदेसा वैशाख का , जागृत रखें विवेक।।
बुद्ध न हो अतिरेक का, किंचित कभी शिकार।
आत्म दीप ज्योतित करे, तज अविवेक विकार।।
*
बदतर से बेहतर करे, जीवन में हर दाँव।
सुदृढ़ करे या तोड़ दे, वह साँसों का ठाँव।।
विजय-पराजय क्या वरें?, करना हमें चुनाव।
तन कम मन सुन्दर अधिक, तब हो सके निभाव।।
सदा रूप उत्तम नहीं, उत्तम रहे सुरूप।
मन-पुस्तक में कुसुम सम, पाऊँ साथ अनूप।।
*
गुमे ताजगी-गंध पर, देगा संग आनंद।
याद करें मुझ मीत को, जब-जब गायें छन्द।

6 टिप्‍पणियां:

kusum vir ने कहा…

Kusum Vir via yahoogroups.com

आचार्य जी,
विवेक को जागृत करती बहुत ही मनोहारी रचना लिखी है आपने l
अंतिम पंक्तियाँ मन को बहुत भाईं l
सादर,
कुसुम वीर

kusum vir ने कहा…

Kusum Vir via yahoogroups.com

Dear deepti ji,
Very - very beautiful message indeed.
Thank you so much.
Regards,
Kusum Vir

Santosh Bhauwala ने कहा…

Santosh Bhauwala via yahoogroups.com

आदरणीय दीप्ती जी ,अच्छा सन्देश है और का भी इंतज़ार है !
आदरणीय संजीव जी ,पलक झपकते ही आप ने हिंदी रूपांतर कर दिया और वह भी इतनी सुंदर काव्य विधा में अद्धभुत !!
संतोष भाऊवाला ,

indira pratap ने कहा…

Indira Pratap via yahoogroups.com

priy dipti ,
it is better to late than never . very good piece. thanks for sharing with us .

indira pratap ने कहा…

Indira Pratap via yahoogroups.com

संजीव जी इस सुन्दर रचना हेतु बधाई ,
दिद्दा

vijay3@comcast.net via ने कहा…

vijay3@comcast.net @ yahoogroups.com

संजीव जी,

अति सुन्दर!

विजय