रविवार, 8 दिसंबर 2013

vartika samman 2013: sanjiv salil ko vyakaranacharya kamta prasad guru samman

समाचार

वर्तिका के राष्ट्रीय पुरस्कार घोषित
आचार्य संजीव वर्मा 'सलिल' को व्याकरणाचार्य कामता प्रसाद गुरु सम्मान
जबलपुर, भारत। संस्कारधानी जबलपुर की सक्रिय साहित्यिक सामाजिक सांस्कृतिक संस्था वर्तिका २२ दिसम्बर १३ को २९ वें स्थापना दिवस समारोह का आयोजन रानी दुर्गावती संग्रहालय सभागार भँवरताल जबलपुर में कर रही है. इस अवसर पर साहित्य के क्षेत्र में महत्वपूर्ण योगदान हेतु राष्ट्रीय तथा स्थानीय स्तर पर पुरस्कार दिये जाने हेतु नामांकन आमंत्रित किये गये थे. एक उच्चस्तरीय चयन समिति ने वरिष्ठ साहित्यकार तथा साहित्य मनीषी प्रो चित्रभूषण श्रीवास्तव विदग्ध की अध्यक्षता में निर्णय लेकर इस वर्ष के पुरस्कारों की घोषणा की.
स्वर्ग विभा वेबसाइट की संस्थापिका डॉ. तारा सिंग मुम्बई को इस वर्ष का साज जबलपुरी लाइफटाइम वर्तिका अवार्ड दये जाने की घोषणा की गई है. साहित्य अकादमी के निदेशक डॉ. त्रिभुवन नाथ शुक्ल भोपाल को रामेश्वर शुक्ल अंचल अलंकरण,  आचार्य श्री संजीव वर्मा 'सलिल' जबलपुर को व्याकरणाचार्य कामता प्रसाद गुरू अलंकरण  के अतिरिक्त दिल्ली के श्री जाली अंकल, हैदराबाद के ब्लॉगर व कवि श्री विजय सपट्टी, नोयडा की सुश्री सखी सिंह, भोपाल के श्री अनवर इस्लाम, जबलपुर के श्री कुँवर प्रेमिल एवं श्रीमती लक्ष्मी शर्मा को सम्मानित किया जाएगा. इसके अतिरिक्त श्रीमती सुनीता मिश्रा  को श्रीमती दयावती श्रीवास्तव शिक्षा वर्तिका अलंकरण तथा श्री दीपक तिवारी को वर्तिका सम्मान प्रदान किया जाए गा .
वर्तिका ने अभिनव पहल करते हुए सक्रिय साहित्यिक संस्थाओं को भी सम्मानित करने का निर्णय लिया है. इस वर्ष यह सम्मान गुंजन कला सदन के संस्थापक श्री ओंकार श्रीवास्तव 'संत' को दिये जाने का निर्णय सर्व सम्मति से लिया गया है. 'वर्तमान परिदृश्य में साहित्यकारों की भूमिका' विषय पर संगोष्ठी के आयोजन के पश्चात् अलंकरण समारोह रविवार २२ दिसम्बर २०१३ को संध्या ६ बजे से आयोजित किया जा रहा है. समारोह के मुख्य अतिथि श्री मनु श्रीवास्तव आई. ए. एस. अध्यक्ष एवं प्रबंध संचालक पावर मैनेजमेंट होंगे. कार्यक्रम की अध्यक्षता हेतु कालिदास अकादमी के पूर्व निदेशक डॉ. कृष्णकांत चतुर्वेदी तथा  विशिष्ट अतिथि के रूप में श्रीमती प्रज्ञा ॠचा श्रीवास्तव आई. पी. एस.  आई. जी. पुलिस महानिरीक्षक ने सहमति प्रदान की है.
समारोह के पहले चरण में दोपहर १ बजे से 'वर्तमान परिदृश्य में साहित्यकारों' की भूमिका विषय पर संगोष्ठी होगी जिसकी अध्यक्षता प्रो. चित्रभूषण श्रीवास्तव 'विदग्ध' करेंगे तथा मुख्य वक्ता के रूप में श्री राजेन्द्र चंद्रकांत राय वक्तव्य देंगे. संगोष्ठी में वाचन हेतु आलेख  श्री विवेकरंजन श्रीवास्तव, अध्यक्ष  वर्तिका, ओ बी ११, विद्युत मण्डल कालोनी, रामपुर जबलपुर ४८२००८ को भेजे जा सकते हैं.


कोई टिप्पणी नहीं: