शनिवार, 6 जुलाई 2019

कुछ तुम कहो, कुछ हम कहें

कार्यशाला 
कुछ तुम कहो, कुछ हम कहें 
दो कवि रचना एक:
*
शीला पांडे:
झूठ मूठ की कांकर सांची गागर फोड़ गयी
प्रेम प्रीत की प्याली चटकी घायल छोड़ गयी
*
संजीव वर्मा 'सलिल'
लिए आस-विश्वास फेविक्विक आँख लगाती है
झुकी पलक संबंधों का नव सेतु बनाती है.
*

कोई टिप्पणी नहीं: