मंगलवार, 30 जुलाई 2019

मुक्तक

मुक्तक:
कोशिशें करती रहो, बात बन ही जायेगी 
जिन्दगी आज नहीं, कल तो मुस्कुरायेगी 
हारते जो नहीं गिरने से, वो ही चल पाते- 
मंजिलें आज नहीं कल तो रास आयेंगी. 
****
salil.sanjiv@gmail.com
#divyanarmada
#दिव्यनर्मदा

कोई टिप्पणी नहीं: