सोमवार, 22 जुलाई 2019

मुकतक महिला क्रिकेट

मुकतक महिला क्रिकेट
*
दीप्ति तम हरकर उजाला बाँट दे 
अब न शर्मा शतक से तम छांट दे
दस दिशाओं से सुनो तुम तालियाँ 
फाइनल लो जीत धोबीपाट दे
*
एकता है तो मिलेगी विजय भी
गेंद की गति दिशा होगी मलय सी
खाए चक्कर ब्रिटिश बल्लेबाज सब 
तिरंगा फ़हरा सके, हो जयी भी
*
स्मृति का बल्ला चला, गेंद हुई रॉकेट.
पलक झपकते नभ छुए, गेंदबाज अपसेट.
*
दीप्ति कौंधती दामिनी, गिरे उड़ा दे होश.
चमके दमके निरंतर, कभी न रीते कोश.
*
पूनम उतरी तो हुई,  अजब अनोखी बात.
घिरे विपक्षी तिमिर में,  कहें अमावस तात.
*
शर संधाना तो हुई, टीम विरोधी ढेर. 
मंधाना के वार से,  नहीं किसी की खैर
२२.७.२०१७ 
***

कोई टिप्पणी नहीं: