शनिवार, 13 जुलाई 2019

नवान्वेषित सवैया

नवान्वेषित सवैया:
गणसूत्र : स भ भ म र य र  ल ग।
पद भार : ११२-२११-२११-२२२-२१२-१२२-२१२-१-२।
*
सुधियों की दहरी पर, यादों के दीप बाल, दीवाली मना रहा
कलियों से अँजुरी भर, वेणी से गूँथ बाल, दीवानी बना रहा
अँखियों ने सखियों सँग, की मस्ती छेड़-छाड़, दोगाना कहा-सुना
अधरों ने अधरों पर, नातों के चिन्ह छाप, ना को हाँ  बना लिया
***
नवान्वेषित सवैया:
गणसूत्र : म त य भ भ म य  ।
पद भार : २२२-२२१-१२२-२११-२११-२२२-१२२।
*
ना पानी हो व्यर्थ बचा यारों! अब कूप-नदी में डालना है
लूटा था तो जीवन देना है, शुक-कोयल को भी पालना है 
बूढ़ों से ही है घर की शोभा, फलती बस सेवा भावना है
जाओ तो ना कर्ज रहे बाकी, कुछ शेष न देना पावना है
*
संजीव
१२-७-२०१९   

कोई टिप्पणी नहीं: