शनिवार, 6 जुलाई 2019

दोहा: गुरु महिमा

गुरु महिमा 
*
जीवन के गुर सिखाकर, गुरु करता है पूर्ण 
शिष्य बिना गुरु,शुरू बिना रहता शिष्य अपूर्ण 
*
गुरु उसको ही जानिए, जो दे ज्ञान-प्रकाश
आशाओं के विहग को, पंख दिशा आकाश
*
नारायण-आनंद का, माध्यम कर्म अकाम
ब्रम्हा-विष्णु-महेश ही, कर्मदेव के नाम
*
गुरु को अर्पित कीजिये, अपने सारे दोष
लोहे को सोना करें, गुरु पाये संतोष
*
गुरु न गूढ़, होता सरल, क्षमा करे अपराध
अहंकार-खग मारता, ज्यों निष्कंपित व्याध
***

कोई टिप्पणी नहीं: