गुरुवार, 4 जुलाई 2019

क्षणिका

क्षणिका
आभार 
*
आभार ही 
आ भार.
वही कहे 
जो सके
भार स्वीकार.
***

कोई टिप्पणी नहीं: