कुल पेज दृश्य

सोमवार, 27 जुलाई 2020

एक रचना

एक रचना
*
अरुण अर्णव लाल-नीला
अहम् तज मन रहे ढीला
स्वार्थ करता लाल-पीला
छंद लिखता नयन गीला
संतुलन चाबी, न ताला
बिना पेंदी का पतीला

नमन मीनाक्षी सुवाचा
गगन में अरविंद साँचा
मुकुल मन ने कथ्य बाँचा
कर रहा जग तीन-पाँचा
मंजरी सज्जित भुआला

पुनीता है शक्ति वर ले
विनीता मति भक्ति वर ले
युक्तिपूर्वक जिंदगी जी
मुक्ति कर कुछ कर्म वर ले
काल का सब जग निवाला
*
संजीव
८-६-२०२०

1 टिप्पणी:

Packers And Movers Bangalore ने कहा…
इस टिप्पणी को ब्लॉग के किसी एडमिन ने हटा दिया है.