सोमवार, 20 मई 2019

दोहा

दोहा सलिला 
*
मार न पड़ती उम्र की, बढ़ता अनुभव-तेज।
तब करते थे जंग, रंग जमा हुए रंगरेज।।
*
मन बच्चा-सच्चा रहे, कच्चा तन बदनाम।
बिन टूटे बादाम हो, टूटे तो बेदाम।।
*
कैसे हैं? क्या होएँगे?, सोच न आती काम।
जैसा चाहे विधि रखे, करे न बस बेकाम।
*
कांता जैसी चाँदनी, लिये हाथ में हाथ।
कांत चाँद सा सोहता, सदा उठाए माथ।।
*
मिल कर भी मिलती नहीं, मंजिल खेले खेल।
यात्रा होती रहे तो, हर मुश्किल लें झेल।।
*

कोई टिप्पणी नहीं: