कुल पेज दृश्य

रविवार, 27 मार्च 2022

अरविन्द घोष

अरविन्द घोष















सॉनेट 
महर्षि अरविंद 
अमित प्रतिभा पुंज वंदन।
विरागी का राग-गायन।
कभी सावन, कभी फागुन।।
युग लगाता भाल चंदन।।

क्रांतिनायक, शांतिधारक।
आप ही अपने विधायक।
कहा हर जन हो विनायक।।
मौन साधक, भ्रांति मारक।।

विश्वचेता, स्वार्थजेता।
आत्म उन्नति के प्रणेता।
सर्व जागृति पूत नेता।।

ध्यान धारण चिरंतन कर।
शांति मन की प्रभंजन कर।
पुजे मन को निरंजन कर।।
२७-३-२०२२
•••

श्री अरबिंदो का जीवन युवाकाल से ही उतार चढ़ाव से भरा रहा है। बंगाल विभाजन के बाद श्री अरबिंदो शिक्षा छोड़ कर स्वतंत्रता संग्राम में क्रांतिकारी के रूप में लग गए। कुछ सालों बाद वह कलकत्ता छोड़ पॉन्डिचेरी बस गए जहाँ उन्होंने एक आश्रम का निर्माण किया।  जिसका नेतृत्व मीरा अल्फासा से अपने मृत्यु २४ नवम्बर १९२६ तक किया jinhen माँ के नाम से पुकारा जाता था। श्री अरबिंदो का जीवन वेद , उपनिषद और ग्रंथों को पढ़ने और उनके अभ्यास करने में गुजरा। श्री अरबिंदो ने क्रांतिकारी जीवन त्याग शारीरिक,मानसिक और आत्मिक द्रिष्टी से योग पर अभ्यास किया और दिव्य शक्ति को प्राप्त किया। श्री अरबिंदो का शैक्षिक जीवन भी रहा है जब वे बड़ौदा के एक राजकीय विद्यालय में उपप्रधानाचार्य रह चुके थे। श्री अरबिंदो ने अपनी प्रार्थना में यह माँगा कि – “मैं तो केवल ऐसी शक्ति माँगता हूँ जिससे इस राष्ट्र का उत्थान कर सकूँ, केवल यही चाहता हूँ कि मुझे उन लोगों के लिये जीवित रहने और काम करने दिया जाये जिन्हें मैं प्यार करता हूँ तथा जिनके लिए मेरी प्रार्थना है कि मैं अपना जीवन लगा सकूँ|” उनके अनुसार समग्र योग का लक्ष्य है आध्यात्मिक सिद्धि और अनुभव प्राप्त करना साथ ही साथ सारी सामाजिक समस्यायों से छुटकारा पाना। राष्ट्रीयता एक आध्यात्मिक बल है जो सदैव विद्यमान रहती है और इसमें किसी प्रकार का कोलाहल नहीं होता। श्री अरबिंदो के अनुसार जीवन एक अखंड प्रक्रिया है क्यूंकि यही एक माध्यम है जिससे मानव जाति सम्पूर्ण रूप से सत्य और चेतना का अभ्यास कर दिव्य शक्ति को प्राप्त कर सकते हैं।

अरबिंद कृष्णधन घोष या श्री अरबिंदो एक महान योगी और गुरु होने के साथ साथ गुरु और दार्शनिक भी थे। ईनका जन्म १५ अगस्त १८७२ को कलकत्ता पश्चिम बंगाल में हुआ था। युवा-अवस्था में ही इन्होंने स्वतंत्रता संग्राम में क्रांतिकारियों के साथ देश की आज़ादी में हिस्सा लिया। समय ढलते ये योगी बन गए और इन्होंने पांडिचेरी में खुद का एक आश्रम स्थापित किया। वेद, उपनिषद तथा ग्रंथों का पूर्ण ज्ञान होने के कारण इन्होंने योग साधना पर मौलिक ग्रंथ लिखे। श्री अरबिंदो के जीवन का सही प्रभाव विश्वभर के दर्शन शास्त्र पर पड़ रहा है। अलीपुर सेंट्रल जेल से मुक्त होने के बाद श्री अरबिंदो का जीवन ज्यादातर योग और ध्यान में गुजरा।

श्री अरबिंदो के पिता कृष्णधुन घोष और माँ स्वर्णलता और भाई बारीन्द्र कुमार घोष तथा मनमोहन घोष थे। उनके पिताजी बंगाल के रंगपुर में सहायक सर्जन थे और उन्हें अंग्रेजों की संस्कृति काफी प्रभावित करती थी इसलिए उन्होंने उनके बच्चो को इंग्लिश स्कूल में डाल दिया था। वे चाहते थे कि उनके बच्चे क्रिश्चियन धर्म के बारे में भी बहुत कुछ जान सकें। घोष चाहते थे कि वे उच्च शिक्षा ग्रहण कर उच्च सरकारी पद प्राप्त करें। जब अरविंद घोष पाँच साल के थे, तो उन्हें पढ़ने के लिए दार्जिलिंग के लोरेटो कॉन्वेंट स्कूल में भेजा गया। यह अंग्रेज सरकार के संस्कृति का मुख्य केंद्र माना जाता था। तत्पश्चात उन्होंने ७ वर्ष की अल्पायु में ही श्री अरबिंदो को पढ़ने इंग्लैंड भेज दिया। इंग्लैंड में अरबिन्दों घोष ने अपनी पढाई की शुरुवात सैंट पौल्स स्कूल (1884) से की और छात्रवृत्ति मिलने के बाद में उन्होंने कैम्ब्रिज के किंग्स कॉलेज (१८९०) में पढाई पूरी की। १८ वर्ष के होते ही श्री अरबिंदो ने ICS की परीक्षा उत्तीर्ण कर ली। १८ साल की आयु में इन्हें कैंब्रिज में प्रवेश मिल गया। अरविंद घोष ना केवल आध्यात्मिक प्रकृति के धनी थे बल्कि उनकी उच्च साहित्यिक क्षमता उनके माँ की शैली की थी। इसके साथ ही साथ उन्हें अंग्रेज़ी, फ्रेंच, ग्रीक, जर्मन और इटालियन जैसे कई भाषाओं में निपुणता थी। सभी परीक्षा उत्तीर्ण करने के बाद भी वे घुड़सवारी के परीक्षा में विफल रहे जिसके कारण उन्हें भारतीय सिविल सेवा में प्रवेश नहीं मिला।

सन् १८९३ में श्री अरबिंदो भारत लौट आए और बड़ौदा के एक राजकीय विद्यालय में ७५० रुपये वेतन पर उपप्रधानाचार्य नियुक्त किए गए। बड़ौदा के राजा द्वारा उन्हें सम्मानित किया गया। १८९३ से १९०६ तक उन्होंने संस्कृत, बंगाली साहित्य, दर्शनशास्त्र और राजनीति विज्ञान का विस्तार से अध्ययन किया। स्वदेश आने पर उनके विचारों से प्रभावित होकर गायकवाड़ नरेश ने उन्हें बड़ौदा में अपनी निजी सचिव के पद पर नियुक्त किया। यहीं से वे कोलकाता आए और फिर महर्षि अरविंद आजादी के आंदोलन में कूद पड़े। अरबिन्दो घोष के परदादा ब्राह्मो समाज जैसी धार्मिक सुधारना आन्दोलन में काफी सक्रिय रहते थे। उनसे प्रेरित होकर ही अरबिन्दो घोष सामाजिक सुधारना लाना चाहते थे। २८ साल की उम्र में साल१९०१ में अरबिन्दों घोष ने भूपाल चन्द्र बोस की लड़की मृणालिनी से विवाह किया था। लेकिन दिसंबर १९१८ में इन्फ्लुएंजा के संक्रमण से मृणालिनी की मृत्यु हो गयी थी।

उनके भाई बारिन ने उन्हें बाघा जतिन, जतिन बनर्जी और सुरेंद्रनाथ टैगोर जैसी क्रांतिकारियों से मिलवाया। कुछ सालों तक भारत में रहने के बाद में अरबिन्दो घोष को एहसास हुआ कि अंग्रेजों ने भारतीय संस्कृति को नष्ट करने की कोशिश की है और इसलिए धीरे धीरे वह राजनीति में रुचि लेने लगे थे। उन्होंने शुरू से ही भारत के लिए पूर्ण स्वतंत्रता की मांग पर जोर दिया था। इसके बाद वे १९०२ में अहमदाबाद के कांग्रेस सत्र में बाल गंगाधर तिलक से मिले और बाल गंगाधर से प्रभावित होकर स्वतंत्रता संघर्ष से जुड़ गए। वर्ष १९०६ में बंग-भग आंदोलन के दौरान महर्षि ने बड़ौदा से कलकत्ता की तरफ कदम बढ़ाए और इसी दौरान उन्होंने अपनी नौकरी से त्यागपत्र दे दिया।

नौकरी छोड़ने के बाद उन्होंने 'वंदे मातरम्' साप्ताहिक के सहसंपादन के रूप से अपना काम प्रारंभ किया। उन्होंने ब्रिटिश सरकार के अन्याय के खिलाफ अपनी आवाज बुलंद करते हुए जोरदार आलोचना की। ब्रिटिश सरकार के खिलाफ लिखने पर उन पर मुकदमा दर्ज किया गया, लेकिन वे छूट गए। १९०५ में हुए बंगाल बिभाजन के बाद हुए क्रांतिकारी आंदोलन से इनका नाम जोड़ा गया। १९०५ मे व्हाईसरॉय लॉर्ड कर्झन ने बंगाल का विभाजन किया। पूारे देश मे बंगाल के विभाजन के खिलाफ आंदोलन शुरु हुए। पूरा राष्ट्र इस विभाजन के खिलाफ उठ खडा हुआ। ऐसे समय में अरबिंद जैसे क्रांतिकारक का चैन से बैठना नामुमकिन था। बंगाल का विभाजन होने के बाद वह सन १९०६ में कोलकाता आ गए थे। ऊपर से अरबिन्दो घोष असहकार और शांत तरीके से अंग्रेज सरकार का विरोध करते थे, लेकिन अंदर से वे क्रांतिकारी संघटना के साथ काम करते थे। बंगाल के अरबिंदो घोष कई क्रांतिकारियों के साथ में रहते थे और उन्होंने ही बाघा जतिन, जतिन बनर्जी और सुरेन्द्रनाथ टैगोर को प्रेरित किया था।१९०६ में बंगाल विभाजन के बाद श्री अरबिंदो ने इस्तीफा दे दिया और देश की आज़ादी के लिए आंदोलनों में सक्रिय होने लगे।

साथ ही कई सारी समितियों की स्थापना की थी जिसमें अनुशीलन समिति भी शामिल है। साल १९०६ में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अधिवेशन में भी उन्होंने हिस्सा लिया था, दादाभाई नौरोजी इस अधिवेशन के अध्यक्ष थे। उन्होंने राष्ट्रीय आन्दोलन के चार मुख्य उद्देश्यों- स्वराज, स्वदेश, बहिष्कार और राष्ट्रीय शिक्षा की पूर्ति के लिए काम किया था। उन्होंने सन १९०७ में ‘वन्दे मातरम’ अखबार निकाला।सरकार के अन्याय पर ‘वंदे मातरम्’ मे सें उन्होंने जोरदार आलोचना की। ‘वंदे मातरम्’ मे ब्रिटिश के खिलाफ लिखने की वजह से उनके उपर मामला दर्ज किया गया लेकीन वो छुट गए। सन १९०७ में कांग्रेस मध्यम और चरमपंथी ऐसे दो गुटों में बट चूका थे। अरविन्द घोष चरमपंथी गुटों में शामिल थे और वह बाल गंगाधर तिलक का समर्थन करते थे। उसके बाद मे अरविन्द घोष पुणे, बरोदा बॉम्बे गए और वहापर उन्होंने राष्ट्रीय आन्दोलन के लिए बहुत काम किया।

१९०८ मे खुदीराम बोस और प्रफुल्ल चाकी इन अनुशीलन समिति के दो युवकोंने किंग्जफोर्ड इस जुलमी जज को मार डालने की योजना बनाई। पर उसमे वो नाकाम रहे। खुदीराम बोस पुलिस के हाथों लगे। उन्हें फांसी दी गयी। पुलिस ने अनुशीलन समिति के सदस्यों को पकड़ना शुरु किया। अरविंद घोष को भी गिरफ्तार किया गया। १९०८-०९ में उन पर अलीपुर बमकांड मामले में राजद्रोह का मुकदमा चला। अलीपुर बम केस श्री अरबिंदो के जीवन का अहम हिस्सा था। एक साल के लिए उन्हें अलीपुर सेंट्रल जेल के सेल में रखा गया जहाँ उन्होंने एक सपना देखा कि भगवान ने उन्हें एक दिव्य मिशन पर जाने का उपदेश दिया। इसके बाद  कहा जाता है कि उन्हें अलीपुर जेल में ही भगावन कृष्ण के दर्शन हुए।  यहाँ से उनका जीवन पूरी तरह बदला और वे साधना और तप करते, गीता पढ़ते और भगवान श्रीकृष्ण की आराधना करते। वह अपनी अवधि से जल्दी बरी हो गए थे। स्वतंत्रता संग्राम में प्रमुख भूमिका निभाने के साथ साथ उन्होनें अंग्रेज़ी दैनिक ‘वंदे मातरम’ पत्रिका का प्रकाशन किया और निर्भय होकर लेख लिखें। 

रिहाई के बाद उन्होंने कई ध्यान किए और उनपर निरंतर अभ्यास करते रहें। सन् १९१० में श्री अरबिंदो कलकत्ता छोड़कर पांडिचेरी बस गए। वहाँ उन्होंने एक संस्था बनाई और एक आश्रम का निर्माण किया। जब वे जेल से बाहर आए, तो आंदोलन से नहीं जुड़े और १९१० में पुड्डचेरी चले गए और यहाँ उन्होंने योग द्वारा सिद्धि प्राप्त कर काशवाहिनी नामक रचना की। १९२६ में अपनी आध्यात्मिक सहचरी मिर्रा अल्फस्सा (माता) की मदद से श्री अरबिन्दो आश्रम की स्थापना की।महर्षि अरविंद एक महान योगी और दार्शनिक थे। उन्होंने योग साधना पर कई मौलिक ग्रंथ लिखे। सन् १९१४ में श्री अरबिंदो ने आर्य नामक दार्शनिक मासिक पत्रिका का प्रकाशन किया। अगले ६ सालों में उन्होंने कई महत्वपूर्ण रचनाएँ की। कई शास्त्रों और वेदों का ज्ञान उन्होंने जेल में ही प्रारंभ कर दी थी। सन् १९२६ में श्री अरबिंदो सार्वजनिक जीवन में लीन हो गए।

द रेनेसां इन इंडिया – The Renesan in India, वार एंड सेल्फ डिटरमिनेसन – War and Self Determination, द ह्यूमन साइकिल – The Human Cycle, द आइडियल ऑफ़ ह्यूमन यूनिटी – The Ideal of Human Unity तथा द फ्यूचर पोएट्री – The Future Poetry, दिव्य जीवन, द मदर, लेटर्स आन् योगा, सावित्री, योग समन्वय, महत्वपूर्ण पुस्तकें हैं।  कविता को समृद्ध बनाने में उन्होंने १९३० के दौरान महान योगदान दिया है। उन्होंने “सावित्री” नाम की एक बड़ी  २४००० पंक्तियों की कविता लिखी है और उनकी यह कविता अध्यात्म पर आधारित है। इन सब के साथ-साथ वे दर्शनशास्त्री, कवि, अनुवादक और वेद, उपनिषद और भगवत् गीता पर लिखने का भी काम करते थे।अरबिन्दो घोष को कविता, अध्यात्म और तत्त्वज्ञान में जो योगदान दिया उसके लिए उन्हें नोबेल का साहित्य पुरस्कार(१९४३) और नोबेल का शांति पुरस्कार(१९५०) के लिए भी नामित किया गया था। 

५ दिसंबर, १९५० को श्री अरबिन्दो घोष की मृत्यु हो गयी थी। निधन के चार दिन तक उनके पार्थिव शरीर में दिव्य आभा बनी रही, जिसकी वजह से उनका अतिम संस्कार नहीं किया गया और ९ दिसंबर १९५० को उन्हें आश्रम में ही समाधि दी गई।
***

कोई टिप्पणी नहीं: