गुरुवार, 1 अगस्त 2019

मुक्तक

मुक्तक
*
बन के अपना पराया तुमने किया 
हमने चुप हो ज़हर का घूँट पिया 
हों जो तूफ़ान हार जाओगे-
जलेंगे दिल में तेरे बन के दिया...

*
दूर रहकर भी जो मेरे पास है.
उसी में अपनत्व का आभास है..
जो निपट अपना वही तो ईश है-
क्या उसे इस सत्य का अहसास है?
*
भ्रम तो भ्रम है, चीटी हाथी, बनते मात्र बहाना.
खुले नयन रह बंद सुनाते, मिथ्या 'सलिल' फ़साना..
नयन मूँदकर जब-बज देखा, सत्य तभी दिख पाया-
तभी समझ पाया माया में कैसे सत्पथ पाना..
*
मुक्तक मोती माल ले, करें समय से बात।
नहीं रात को दिन कहें, नहीं दिवस को रात।।
औरों को सम मान दे, पाएँ नित सम्मान-
मत भूलें उपकार को, कभी करें मत घात।।

*
गाँठ अहं की खुल जाए तो सलिल-धार नर्मदा बने।
सुलभ सके झट सारी उलझन, भौंह न कोई रही तने।।
अपने गैर न हो पाएँगे, गैर सभी अपने होंगे-
नेह नर्मदा नित्य नहाओ, भले बचाओ चार चने।।

*
भीतर-बाहर जाऊँ जहाँ भी, वहीं मिले घनश्याम.
खोलूँ या मूंदूं पलकें, हँसकर कहते 'जय राम'..
सच है तो सौभाग्य, अगर भ्रम है तो भी सौभाग्य-
सीलन, घुटन, तिमिर हर पथ दिखलायें उमर तमाम..

*

कोई टिप्पणी नहीं: