रविवार, 12 अगस्त 2018

प्रकाशन सूचना

विश्ववाणी हिंदी संस्थान
४०१ विजय अपार्टमेंट, नेपियर टाउन, जबलपुर ४८२००१
- : दोहा शतक मंजूषा प्रकाशित : -
विश्ववाणी हिंदी संस्थान जबलपुर के तत्वावधान में दोहा-लेखन तथा दोहाकारों को प्रोत्साहित तथा प्रतिष्ठित करने का उद्देश्य लेकर समकालिक वरिष्ठ तथा नवोदित १५-१५ दोहाकारों के दोहा-शतकों के संकलन प्रकाशित किए जा रहे हैं। भाग १ व २ का मुद्रण प्रगति पर है। भाग ३ का संपादन कार्यप्रगति पर है। भाग ४ हेतु सहभागियों का स्वागत है। दोहे को लेकर इतना विराट अनुष्ठान पहली बार हो रहा है। यह संकलन दोहा का अजायब-घर या दूकान नहीं, क्यारी-उद्यान और खेत-खलिहान की तरह हैं।
संकलन में सम्मिलित प्रत्येक दोहाकार के १०० दोहे, चित्र, दोहों पर संक्षिप्त समीक्षा, परिचय (नाम, जन्म तिथि व स्थान, माता-पिता, जीवनसाथी व काव्य गुरु के नाम, शिक्षा, लेखन विधा, प्रकाशित कृतियाँ, उपलब्धि, पूरा पता, चलभाष, ईमेल आदि) १० पृष्ठों में प्रकाशित किए जाएँगे। हर सहभागी के दोहों पर संक्षिप्त विमर्शात्मक टीप तथा दोहा पर महत्वपूर्ण व प्रमाणिक जानकारी भी होगी। संपादन वरिष्ठ दोहाकार आचार्य संजीव 'सलिल' तथा प्रो.( डॉ.) साधना वर्मा द्वारा किया जा रहा है। प्रत्येक सहभागी ३०००/- अग्रिम सहयोग राशि देना बैंक, राइट टाउन शाखा जबलपुर IFAC: BKDN ०८११११९ (0811119) में संजीव वर्मा के खाता क्रमांक १११९१०००२२४७ (111910002247) में अथवा नकद जमा करें। संकलन प्रकाशित होने पर हर सहभागी को सहभागिता-सम्मान पत्र तथा पुस्तक की ११ प्रतियाँ निशुल्क भेंट की भेजी जाएँगी। संकलन का मूल्य ३००/- है। सहभागियों अतिरिक्त प्रतियाँ ३०% कम मूल्य व डाक शुल्क बिना मिल सकेंगी। प्राप्त दोहों में आवश्यकतानुसार संशोधन का अधिकार संपादक को होगा। दोहे unicode में भेजने हेतु ईमेल- salil.sanjiv@gmail.com, चलभाष ७९९९५५९६१८, ९४२५१८३२४४ । भारतीय बोलियों / अहिंदी भाषाओँ के दोहे देवनागरी लिपि में आंचलिक शब्दों के अर्थ पाद टिप्पणी में देते हुए भेजें। दोहा लेखन के विधान, मात्रा गणना के नियम या अन्य जानकारी हेतु संपर्क करें .
दोहा शतक मञ्जूषा १ 'दोहा-दोहा नर्मदा'- श्री/सुश्री/श्रीमती १. आभा सक्सेना 'दूनवी', २. कालिपद प्रसाद, ३. डॉ. गोपालकृष्ण भट्ट 'आकुल', ४. चंद्रकांता अग्निहोत्री', ५.छगनलाल गर्ग 'विज्ञ', ६. छाया सक्सेना 'प्रभु', ७. त्रिभुवन कौल, ८. प्रेमबिहारी मिश्र, ९. मिथिलेश बड़गैया, १०. रामेश्वरप्रसाद सारस्वत, ११. विजय बागरी, १२. विनोद जैन 'वाग्वर', १३. श्रीधर प्रसाद द्विवेदी, १४. श्यामल सिन्हा, १५. सुरेश कुशवाहा 'तन्मय'।
दोहा शतक मञ्जूषा २ 'दोहा-सलिला निर्मला'- श्री/सुश्री/श्रीमती १. अखिलेश खरे 'अखिल', २. अरुण शर्मा, ३. उदयभानु तिवारी 'मधुकर', ४. ॐ प्रकाश शुक्ल, ५. जयप्रकाश श्रीवास्तव, ६. नीता सैनी, ७. डॉ. नीलमणि दुबे, ८. बसंत शर्मा, ९. राम कुमार चतुर्वेदी, १०. रीता सिवानी, ११. शुचि भवि, १२. शोभित वर्मा, १३. सरस्वती कुमारी, १४. हरि फैजाबादी, १५. हिमकर श्याम।
दोहा शतक मञ्जूषा ३ 'दोहा दीप्त दिनेश'- श्री / सुश्री / श्रीमती १. अनिल कुमार मिश्र, २. अरुण अर्णव खरे, ३. इंद्रकुमार श्रीवास्तव, ४. कांति शुक्ल 'उर्मि', ५. गोपालकृष्ण चौरसिया मधुर, ६. डॉ. चित्रभूषण श्रीवास्तव 'विदग्ध', ७. डॉ. जगन्नाथ प्रसाद बघेल, ८. मनोज कुमार शुक्ल, ९. महातम मिश्र, १०.राजकुमार महोबिया, ११. रामलखन सिंह चौहान, १२. विनीता श्रीवास्तव, १३. विश्वंभर शुक्ल, १४. शशि त्यागी, १५. संतोष नेमा
आगामी संकलनों हेतु रचनारत दोहाकार: सर्व श्री/ सुश्री/ श्रीमती पूजा अनिल स्पेन, लता यादव गुरुग्राम, डॉ. रमन चेन्नई, रमेश शर्मा मुंबई, रमेश विनोदी, डॉ. वसुंधरा उपाध्याय पिथौरागढ़, डॉ. शुभदा बाजपेई ,सविता तिवारी मारीशस, साहबलाल दशरिये बालाघाट, सुमन श्रीवास्तव लखनऊ आदि। ***

कोई टिप्पणी नहीं: