शनिवार, 17 फ़रवरी 2018

prakashan suchna

ॐ 
विश्ववाणी हिंदी संस्थान 
समन्वयम २०४ विजय अपार्टमेंट, नेपियर टाउन, जबलपुर ४८२००१, चलभाष: ९४२५१ ८३२४४ / ७९९९५५९६१८  
ऍफ़ २, वी ५ विनायक होम्स, मयूर विहार, अशोक गार्डन,भोपाल ४६२०२३ चलभाष: ९५७५४६५१४७ 
=======================================
- : समकालिक दोहा संकलन- "दोहा दुनिया" : -
*

विश्ववाणी हिंदी संस्थान जबलपुर के तत्वावधान में समकालिक दोहकारों का प्रतिनिधि संकलन 'दोहा दुनिया: १' शीघ्र ही प्रकाशित किया जा रहा है। संकलन में सम्मिलित प्रत्येक दोहाकार के १०० दोहे चित्र, संक्षिप्त परिचय (नाम, जन्म तिथि व स्थान, माता-पिता, जीवनसाथी के नाम, शिक्षा, लेखन विधा, प्रकाशित कृतियाँ, उपलब्धि, पूरा पता, चलभाष, ईमेल आदि) १० पृष्ठों में प्रकाशित किया जाएगा। हर सहभागी के दोहों की संक्षिप्त समीक्षा तथा दोहा पर आलेख भूमिका में होगा। संपादन वरिष्ठ दोहाकार आचार्य संजीव वर्मा 'सलिल' द्वारा किया जा रहा है। दोहे स्वीकृत होने के बाद प्रत्येक सहभागी को ३०००/- सहयोग राशि अग्रिम देना होगी। संकलन प्रकाशित होने पर विमोचन कार्यक्रम में हर सहभागी को सम्मान पत्र तथा ११ प्रतियाँ निशुल्क भेंट की जाएँगी। प्राप्त दोहों में आवश्यकतानुसार संशोधन का अधिकार संपादक को होगा। दोहे unicode में भेजने हेतु ईमेल- salil.sanjiv@gmail.com .
अब तक दोहे भेजनेवाले सहभागियों के वर्ण क्रमानुसार नाम -
१. अनिल मिश्र
२. अरुण अर्णव खरे
३. अरुण शर्मा
४. उदयभानु तिवारी
५. छगनलाल गर्ग
६. छाया सक्सेना
७. जयप्रकाश श्रीवास्तव
८. बसंत शर्मा
९. मिथलेश बड़गैया
१०. विजय बागरी
११. सुनीता सिंह
१२. सुरेश तन्मय
अन्य संभावित सहयोगी: लता यादव, श्यामल सिन्हा, सरस्वती कुमारी
============
'सार्थक लघुकथाएँ' 

'सार्थक लघुकथाएँ' शीर्षक से चयनित लघुकथाकारों की २-२ प्रतिनिधि लघुकथाएँ २ पृष्ठों पर चित्र, पते सहित सहयोगाधार पर प्रकाशित करने की योजना है। लगभग २५० पृष्ठों का संकलन पेपरबैक होगा। संकलन के प्रधान संपादक आचार्य संजीव वर्मा 'सलिल' तथा संपादक श्रीमती कांता रॉय हैं। आवरण बहुरंगी, कागज-मुद्रण अच्छा होगा। प्रत्येक सहभागी को मात्र ३००/- का अंशदान रचनाएँ स्वीकृत होने के बाद भेजना होगा। प्रत्येक सहभागी को २-२ प्रतियाँ, प्रमाणपत्र व स्मृति चिन्ह से सम्मानित किया जायेगा। इच्छुक लघुकथाकार नीचे टिप्पणी में नाम-पता, चलभाष (मोबाइल) क्रमांक अंकित कर सकते हैं। सहमति व सामग्री भेजने हेतु ईमेल: salil.sanjiv@gmail.com या roy.kanta@gmail.com है। इच्छुक लघुकथाकार ९४२५१८३२४४ / ७९९९५५९६१८ या ९५७५४६५१४७ पर संयोजकों से बात कर सकते हैं। अतिरिक्त प्रतियाँ मुद्रित मूल्य से ३०% रियायत पर मिलेंगी।
***
===================
प्रतिनिधि भारतीय लघुकथाएँ 

शीर्षक से चयनित श्रेष्ठ लघुकथाकारों की १०-१० लघु कथाएँ, १०-१० पृष्ठों पर चित्र, संक्षिप्त परिचय (नाम, जन्म तिथि व स्थान, माता-पिता, जीवनसाथी के नाम, शिक्षा, लेखन विधा, प्रकाशित कृतियाँ, उपलब्धि, पूरा पता, चलभाष, ईमेल आदि) तथा संपर्क सूत्र सहित सहयोगाधार पर प्रकाशित करने की योजना है। संकलन का आवरण बहुरंगी, जैकेट सहित पेपरबैक होगा।आवरण, कागज़-मुद्रण अच्छा होगा। प्रत्येक सहभागी को मात्र ३०००/- का अंशदान, रचनाएँ स्वीकृत होने के बाद भेजना होगा। प्रत्येक सहभागी को ११ प्रतियाँ निशुल्क उपलब्ध कराई जाएँगी जिनका विक्रय या अन्य उपयोग करने हेतु वे स्वतंत्र होंगे। इच्छुक लघुकथाकार ९४२५१८३२४४ / ७९९९५५९६१८ या ९५७५४६५१४७  पर वार्ता कर सकते हैं। हर सहभागी को प्रशस्तिपत्र, स्मृति चिन्ह से सम्मानित किया जायेगा। ग्रन्थ के आरंभ में लघुकथा विषयक शोधपरक लेख तथा अंत में परिशिष्ट में शोध छात्रों हेतु उपयोगी सूचनाएँ और सामग्री संकलित की जाएगी। हिंदी के साथ अन्य भारतीय भाषाओँ की लघुकथाएँ (मूल उच्चारण देवनागरी लिपि में तथा हिंदी अनुवाद) भी आमंत्रित हैं। सहमति व सामग्री भेजने हेतु ईमेल: salil.sanjiv@gmail.com, roy. kanta@gmail.com .

प्रतिनिधि भारतीय लघुकथाएँ हेतु अब तक चयनित सहयोगी
[१० पृष्ठ, १० लघुकथाएँ, चित्र-परिचय, भूमिका में लघुकथाओं पर टिप्पणी]
प्राप्त लघुकथाएँ 
१. संजीव वर्मा 'सलिल', जबलपुर
२. कांता राय, भोपाल
३. मिथलेश बड़गैया, जबलपुर
४. वंदना सहाय, मुंबई
५. प्रेरणा गुप्त, कानपूर
६..अरुण शर्मा, भिवंडी
७. सुनीता यादव, भोपाल
८. बसंत शर्मा, जबलपुर
९. 
===========
विश्ववाणी हिंदी संस्थान जबलपुर के तत्वावधान में उक्त के साथ व्यंग्य लेख, नवगीत, श्रृंगार गीत, सरस्वती वंदना, हिंदी पर गीत, देशभक्ति गीत आदि पर भी संकलन प्रकाशित किये जाएँगे। रचनाकारों की व्यक्तिगत कृतियाँ भी प्रकाशित की जा रही हैं. संस्थान की गुडगाँव ईकाई कका गठन किया जा चूका है। अन्य स्थानों पर इकाई स्थापित करने के इच्छुक जन समरक कर सकते हैं।

कोई टिप्पणी नहीं: